Kisan Mitra urja yojana apply 2022:पंजीकरण प्रक्रिया व लाभ

||Kisan Mitra urja yojana apply 2022||पंजीकरण प्रक्रिया व लाभ||

kisan-mitra-urja-yojana-apply

Kisan Mitra Urja Yojana apply पंजीकरण प्रक्रिया व मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना ऑनलाइन आवेदन कैसे करे और पात्रता तथा लाभ देखे |

हमारे देश के किसानों की स्थिति आज भी आर्थिक रूप से स्थिर नहीं है। किसानों की आर्थिक स्थिति में सुधार लाने के लिए सरकार द्वारा समय-समय पर विभिन्न प्रकार के प्रयास किए जाते हैं।

जिससे कि किसानों की आय में वृद्धि की जा सके। राजस्थान सरकार द्वारा भी किसानों की आय में वृद्धि करने के लिए विभिन्न प्रकार योजनाएं संचालित की जा रही है।

ऐसी ही एक योजना मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना है। इस योजना के माध्यम से किसानों के बिजली के बिल में अनुदान प्रदान किया जाता है।

आज हम इस लेख के माध्यम से Kisan Mitra Urja Yojana से संबंधित महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान करने जा रहे हैं। जैसे कि मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना का उद्देश्य, लाभ, विशेषताएं, पात्रता, महत्वपूर्ण दस्तावेज, आवेदन प्रक्रिया आदि।

Mukhyamantri Kisan Mitra Urja Yojana 2022

इस योजना को राजस्थान के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत जी के द्वारा 9 जून को आरंभ किया गया है। Mukhyamantri Kisan Mitra Urja Yojana के माध्यम से प्रदेश के मीटर्ड किसान उपभोक्ताओं को बिजली के बिल पर अनुदान प्रदान किया जाता है। यह अनुदान राशि प्रतिमाह अधिकतम ₹1000 रुपए एवं प्रतिवर्ष अधिकतम ₹12000 रुपए है।

इस योजना के अंतर्गत सभी पात्र कृषि उपभोक्ताओं को विद्युत वितरण निगम द्वारा द्विमासिक बिलिंग व्यवस्था के आधार पर बिजली का बिल जारी किया जाएगा। बिजली के बिल की 60% राशि अनुपातिक आधार पर प्रतिमाह देय होती है। यह राशि अधिकतम ₹1000 प्रतिमाह होती है। 

मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना का लाभ सभी किसान उपभोक्ताओं को मई से मिलना आरंभ हो जाएगा। इस योजना के कार्यान्वयन के लिए सरकार द्वारा 1450 करोड रुपए खर्च किए जाएंगे। प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना से संबंधित जानकारी के लिए क्लिक करें

11.57 लाख किसानों को पहुंचा योजना का लाभ

राजस्थान सरकार द्वारा किसानों के लिए विभिन्न प्रकार की योजनाएं संचालित की जा रही है। जिस्म से एक Kisan Mitra Urja Yojana भी है। इस योजना के माध्यम से अब तक किसानों को 11.57 lakh किसानों को लाभ पहुंचाया जा चुका है। जिसके लिए सरकार द्वारा 743.38 crore रुपए खर्च किए गए हैं।

इस योजना के कारणवश लगभग 7.21 lakh किसानों के बिजली का bill शून्य हो गया है। इस बात की जानकारी सरकार की ओर से tweet करके प्रदान की गई है। कोरोना काल के दौरान किसानों को कई प्रकार की समस्याओं का सामना करना पड़ा था।

इसी बात को ध्यान में रखते हुए राजस्थान सरकार द्वारा मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना आरंभ करने की घोषणा की गई थी। सरकार द्वारा इस योजना को 17 जुलाई को launch किया गया था। इस योजना के माध्यम से सामान्य श्रेणी ग्रामीण के कृषि connection उपभोक्ताओं को ₹12000 प्रति वर्ष का अतिरिक्त अनुदान प्रदान किया जाएगा।

Key Highlights Of Kisan Mitra Urja Yojana apply 2022

योजना का नाममुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना
किसने आरंभ कीराजस्थान सरकार
लाभार्थीराजस्थान के कृषि
उद्देश्यबिजली के बिल पर अनुदान प्रदान करना
आधिकारिक वेबसाइटयहां क्लिक करें
साल2022
आवेदन का प्रकारऑनलाइन/ऑफलाइन
राज्यराजस्थान
अनुदान राशिअधिकतम ₹1000 प्रतिमाह एवं ₹12000 प्रति वर्ष

6 लाख किसानों को पहुंचा योजना का लाभ

राजस्थान के ऊर्जा मंत्री भंवर सिंह भाटी द्वारा 24 मार्च 2022 को यह जानकारी प्रदान की गई कि प्रदेश में मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना का संचालन किया जा रहा है।

जिसके माध्यम से प्रतिमाह किसानों को बिजली के बिल में ₹1000 की छूट प्रदान की जा रही है। अब तक इस योजना के माध्यम से 6 लाख किसानों को लाभ पहुंचा है।

इसके अलावा उनके द्वारा यह भी जानकारी प्रदान की गई कि इस वर्ष 100 यूनिट तक बिजली का उपभोग करने वाले घरेलू विद्युत उपभोक्ताओं को 50 यूनिट तक निशुल्क बिजली उपलब्ध करवाई जाएगी।

इसके अलावा समस्त घरेलू उपभोक्ताओं को 150 यूनिट तक उपभोग पर ₹3 प्रति यूनिट का अनुदान एवं 150 से 300 यूनिट के उपयोग करने पर ₹2 प्रति यूनिट अनुदान प्रदान किया जाएगा।

सरकार द्वारा बिजली बिलों में कृषि, बीपीएल, छोटे घरेलू उपभोक्ताओं, टीएसपी एवं सहरिया उपभोक्ताओं के विद्युत दरों में नियमित अनुदान प्रदान किया जा रहा है। जिसके कारणवश उपभोक्ताओं पर वित्तीय भार कम होगा। मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना को मई से लागू किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना 2022 अतिरिक्त अनुदान

मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना के अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्र के सामान्य श्रेणी के मीटर एवं फ्लैट रेट श्रेणी के कृषि उपभोक्ताओं को वर्तमान में दिए जा रहे टैरिफ अनुदान के साथ अतिरिक्त अनुदान भी प्रदान किया जाएगा।

यह अतिरिक्त अनुदान ₹1000 प्रति माह का होगा। 1 वर्ष में ₹12000 का अधिकतम अतिरिक्त अनुदान प्रदान किया जाएगा। यह अतिरिक्त अनुदान निम्नलिखित शर्तों के अधीन प्रदान किया जाएगा।

  • इस योजना को तीनों विद्युत वितरण निगमों में बिलिंग महा मई एवं उसके बाद जारी होने वाले कृषि बिलों पर लागू किया जाएगा।
  • विद्युत विपत्र, विद्युत वितरण निगम द्वारा बजट घोषणा की अनुपालन के आधार पर प्रति दो महा में जारी किया जाएगा।
  • यह अतिरिक्त अनुदान की राशि केवल सामान्य श्रेणी ग्रामीण के मीटर एवं फ्लैट रेट श्रेणी कृषि उपभोक्ताओं को प्रदान की जाएगी।
  • यदि चालू बिलिंग माह में बिल जारी करते समय कोई भी पूर्व बकाया राशि नहीं है तो इस स्थिति में विद्युत विपत्र में अनुदान राशि इस परिपत्र के अनुसार समायोजित की जाएगी।
  • अपने विद्युत विपत्रो का भुगतान देय तिथि पर करने के लिए उपभोक्ताओं को प्रेरित किया जाएगा।
  • यदि किसी वित्तीय वर्ष में उपभोक्ता की पुन भरण राशि ₹1000 से कम है तो इस स्थिति में शेष राशि समायोजन उसी वित्तीय वर्ष के शेष आगामी माह में किया जाएगा।
  • यदि वर्ष के बीच में नया कनेक्शन जारी किया जाता है तो उस स्थिति में अनुदान की वार्षिक सीमा आनुपातिक रूप से देय होगी।
  • प्रतिमाह सभी लाभार्थी कृषकओं की संख्या तथा उनको दिए गए अनुदान की सूचना वित्त विभाग को प्रदान की जाएगी।
  • विद्युत वितरण निगम को इस योजना के अंतर्गत प्रदान की जाने वाली अतिरिक्त अनुदान राशि तथा आगामी वित्तीय वर्ष के प्रस्ताव को शामिल करते हुए वित्त विभाग को सूचना प्रदान करनी होगी। यह सूचना बीएफसी बैठक के माध्यम से प्रदान करनी होगी। जिससे कि वित्त विभाग द्वारा अनुदान राशि का प्रावधान सुनिश्चित किया जा सके।
  • लाभार्थी को अतिरिक्त अनुदान राशि प्राप्त करने के लिए अपने विद्युत खाता संख्या को आधार संख्या एवं बैंक खाता संख्या से लिंक करना होगा।
  • यदि उपभोक्ता द्वारा विद्युत दुरुपयोग किया जाता है या विद्युत की चोरी की जाती है या फिर विद्युत चोरी एवं निगम संपत्ति को नुकसान की दशा में उपभोक्ता को अनुदान राशि उसके दोषमुक्त होने पर या संपूर्ण आरोपित राशि जमा करने के पश्चात अगले बिलिंग माह में प्रदान की जाएगी।

8.84 लाख किसानों को प्राप्त हुआ योजना का लाभ

Mukhyamantri Kisan Mitra Urja Yojana के माध्यम से लगभग 8.84 लाख से अधिक काश्तकार किसानों को लाभ पहुंचाया गया है। इन किसानों को 231 करोड रुपए का अतिरिक्त अनुदान प्रदान किया गया है।

इस बात की जानकारी राजस्थान सरकार के ऊर्जा मंत्री भंवर सिंह भाटी द्वारा प्रदान की गई है। इस योजना के माध्यम से 3.41 लाख से अधिक काश्तकार किसानों के बिजली बिल शून्य स्तर पर आ गए हैं।

 मुख्यमंत्री किसान मित्र उर्जा योजना के माध्यम से किसानों को राज्य सरकार द्वारा 90 पैसे प्रति यूनिट की दर पर बिजली उपलब्ध करवाई जा रही है।

इस योजना के अंतर्गत आवेदन नजदीकी विद्युत विभाग के माध्यम से किया जा सकता है। इसके अलावा इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए आप की आधार संख्या खाते से लिंक होनी आवश्यक है।

Mukhyamantri Kisan Mitra Urja Yojana का शुभारंभ

17 जुलाई को राजस्थान के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत जी के द्वारा मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना का शुभारंभ किया गया है। यह शुभारंभ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से किया गया है।

इस वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से मुख्यमंत्री जी द्वारा ऊर्जा विभाग की 308 करोड रुपए की लागत की विभिन्न योजनाओं का उद्घाटन भी किया गया है।

इस योजना के माध्यम से किसानों को बिजली के बिल पर ₹1000 रुपए का अनुदान सरकार द्वारा प्रतिमाह प्रदान किया जाएगा। यह अनुदान सीधे किसान के बैंक खाते में वितरित किया जाएगा।

इस योजना का लाभ मई से बिजली के बिल पर प्रदान किया जाएगा। मुख्यमंत्री जी द्वारा यह भी जानकारी प्रदान की गई है कि वर्ष 2024 तक सोलर ऊर्जा के टारगेट को भी पूरा कर लिया जाएगा।

प्रदेश के किसानों को राहत देने के लिए प्रदेश में #मुख्यमंत्री_किसान_मित्र_ऊर्जा_योजना का संचालन किया जा रहा है। इससे कृषि उपभोक्ताओं को बिजली बिलों पर प्रतिमाह 1 हजार रूपए या प्रतिवर्ष अधिकतम 12 हजार रुपए का अनुदान मिल सकेगा। योजना बिलिंग माह मई 2021 से लागू। pic.twitter.com/m9gJbNKvzh— Government of Rajasthan (@RajGovOfficial) August 16, 2021

जिसमें 20000 मेगावाट बिजली उत्पादन करने का लक्ष्य रखा गया है। मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना के माध्यम से लघु एवं मध्यम वर्ग के किसानों के लिए कृषि बिजली लगभग निशुल्क हो जाएगी। इस योजना के अंतर्गत सरकार द्वारा सालाना 1450 करोड़ रुपया की राशि खर्च की जाएगी।

मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना का उद्देश्य

Mukhyamantri Kisan Mitra Urja Yojana 2022 का मुख्य उद्देश्य किसानों को बिजली के बिल पर अनुदान प्रदान करना है। इस योजना के माध्यम से किसानों बिजली के बिल पर अधिकतम ₹1000 प्रतिमाह अनुदान राशि प्रदान की जाएगी। जिससे कि किसान उपभोक्ताओं को अपने बिल का भुगतान करने में सहायता प्राप्त होगी।

इसके अलावा मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना के माध्यम से किसानों को बिजली की बचत करने के लिए भी प्रोत्साहित किया जाएगा।

जिसके लिए यदि किसान का बिल ₹1000 प्रति माह से कम का आता है तो इस स्थिति में बिल की राशि एवं अनुदान राशि के बीच का अंतर लाभार्थी के खाते में हस्तांतरित किया जाएगा।

‘मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना’ के प्रारूप को मंजूरी दी है। इस योजना के तहत राज्य सरकार द्वारा मीटर्ड कृषि उपभोक्ताओं को बिजली के बिल पर प्रतिमाह एक हजार रूपए और अधिकतम 12 हजार रूपए प्रतिवर्ष अनुदान दिया जाएगा।
इससे प्रतिवर्ष एक हजार 450 करोड़ रूपये का वित्तीय भार आएगा।— Ashok Gehlot (@ashokgehlot51) June 9, 2021

विद्युत वितरण निगम में बकाया लाभार्थी के विरुद्ध बकाया

इस योजना का लाभ किसान उपभोक्ता द्वारा तभी उठाया जा सकता है जब लाभार्थी के विरुद्ध विद्युत वितरण निगम में कोई बकाया नहीं है। बकाया होने की स्थिति में यदि कृषि उपभोक्ता बकाया का भुगतान कर देता है तो इस स्थिति में अनुदान राशि आगमी बिजली के बिल में देय होगी।

इसके अलावा यदि किसी किसान द्वारा बिजली का कम उपयोग किया जाता है और उसका बिजली का बिल ₹1000 से कम आता है तो बिल की राशि एवं अनुदान राशि के बीच का अंतर लाभार्थी के खाते में जमा करवा दिया जाएगा। जिससे कि किसान उपभोक्ता बिजली की बचत के लिए प्रोत्साहित हो सके।

 मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना का लाभ केंद्र एवं राज्य सरकार के कर्मचारियों द्वारा नहीं उठाया जा सकता। इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए लाभार्थी को अपनी आधार संख्या को बैंक खाते से जोड़ना अनिवार्य होगा।

Kisan Mitra Urja Yojana

वर्ष 2021-22 के बजट में की गई घोषणा

राजस्थान के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत जी के द्वारा वर्ष 2021-22 के बजट की घोषणा करते समय सामान्य श्रेणी के ग्रामीण कृषि उपभोक्ताओं को प्रतिमाह ₹1000 एवं प्रति वर्ष ₹12000 अनुदान राशि प्रदान करने की घोषणा की गई थी। यह घोषणा केवल उन्हीं कृषि उपभोक्ताओं के लिए की गई थी जिनका बिल मीटरिंग से आता है।

इस घोषणा को ध्यान में रखते हुए विद्युत वितरण निगम द्वारा 750 करोड़ रुपए का प्रावधान टैरिफ सब्सिडी मद में भी शामिल किया गया था। यह प्रावधान अनुदान राशि हस्तांतरण के लिए निर्धारित किया गया है।

Mukhyamantri Kisan Mitra Urja Yojana 2022 के लाभ तथा विशेषताएं

  • मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना को राजस्थान के मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत जी के द्वारा 9 जून को आरंभ किया गया है।
  • इस योजना के माध्यम से प्रदेश के किसान उपभोक्ताओं को अनुदान प्रदान किया जाएगा। जिससे कि उन्हें बिजली के बिल का भुगतान करने में सहायता प्राप्त होगी।
  • यह अनुदान राशि प्रतिमाह अधिकतम ₹1000 एवं प्रतिवर्ष अधिकतम ₹12000 है।
  • सभी पात्र कृषि उपभोक्ताओं को विद्युत वितरण निगम द्वारा इस योजना के अंतर्गत द्विमासिक बिलिंग व्यवस्था के आधार पर बिजली का बिल जारी किया जाएगा।
  • इस योजना को आरंभ करने की घोषणा वर्ष 2021-22 के बजट में मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत जी द्वारा की गई थी।
  • बिजली के बिल की 60% राशि अनुपातिक आधार पर प्रति माह देय होगी। जो कि अधिकतम ₹1000 प्रति माह होगी।
  • इस योजना का लाभ सभी किसान उपभोक्ता मई से उठा सकते हैं।
  • सरकार द्वारा इस योजना के कार्यान्वयन के लिए 1450 करोड रुपए का खर्च किया जाएगा।
  • इस योजना का लाभ कृषि द्वारा केवल तभी उठाया जा सकता है जब कृषि के विद्युत वितरण निगम में कोई बकाया नहीं है।
  • Mukhyamantri Kisan Mitra Urja Yojana 2022 का लाभ प्राप्त करने के लिए लाभार्थी को अपनी आधार संख्या को बैंक खाते से जोड़ना अनिवार्य होगा।
  • यदि किसान द्वारा बकाया राशि का भुगतान कर दिया जाता है तो उस स्थिति में अनुदान राशि आगमी बिजली के बिल में देय होगी।
  • यदि कृषि द्वारा बिजली का कम उपयोग किया जाता है और बिल ₹1000 से कम आता है तो इस स्थिति में बिल की राशि एवं अनुदान राशि के बीच का अंतर लाभार्थी के खाते में जमा करवा दिया जाएगा।
  • इस योजना के माध्यम से कृषि उपभोक्ता बिजली की बचत करने के लिए भी प्रोत्साहित होंगे।
  • मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना का लाभ केंद्र एवं राज्य सरकार के कर्मचारियों द्वारा नहीं उठाया जा सकता।

मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना की पात्रता

  • आवेदक राजस्थान का स्थाई निवासी होना चाहिए।
  • केवल राजस्थान के कृषि उपभोक्ता ही इस योजना का लाभ प्राप्त कर सकते हैं।
  • इस योजना का लाभ केंद्र एवं राज्य सरकार के कर्मचारियों द्वारा नहीं उठाया जा सकता।
  • यदि आप इस योजना का लाभ प्राप्त करना चाहते हैं तो आपकी आधार संख्या आपके खाते से लिंक होनी अनिवार्य है।

महत्वपूर्ण दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • बैंक खाता विवरण
  • निवास प्रमाण पत्र
  • राशन कार्ड
  • आय प्रमाण पत्र
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ
  • मोबाइल नंबर

मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना के अंतर्गत आवेदन करने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको अपने नजदीकी विद्युत विभाग में जाना होगा।
  • इसके पश्चात आपको वहां से मुख्यमंत्री किसान मित्र ऊर्जा योजना का आवेदन पत्र प्राप्त करना होगा।
  • अब आप को आवेदन पत्र में पूछी गई सभी महत्वपूर्ण जानकारी जैसे कि आपका नाम, मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी आदि दर्ज करना होगा।
  • अब आपको सभी महत्वपूर्ण दस्तावेजों को आवेदन पत्र से अटैच करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको यह आवेदन पत्र विद्युत विभाग में जमा करना होगा।
  • इस प्रकार आप Kisan Mitra Urja Yojana के अंतर्गत आवेदन कर पाएंगे।

Leave a Comment